Tuesday, July 16, 2024

31.1 C
Delhi
Tuesday, July 16, 2024

Homeदेश विदेशगांवों में हो रहा पलायन, चीन-नेपाल सीमा पर खुलेंगी पुलिस चौकियां, सख्त...

गांवों में हो रहा पलायन, चीन-नेपाल सीमा पर खुलेंगी पुलिस चौकियां, सख्त होगी सुरक्षा व्यवस्था

देहरादून। उत्तराखंड की सीमा से सटे चीन व नेपाल से घुसपैठ को पूरी तरह से रोकने के लिए पुलिस विभाग सुरक्षा व्यवस्था सख्त करने जा रही है। योजना के तहत विभाग जल्द ही पिथौरागढ़, चमोली और उत्तरकाशी के पांच विकासखंडों मुनस्यारी, धारचूला, कनालीछीना, जोशीमठ व भटवाड़ी के सीमावर्ती क्षेत्र में 16 पुलिस चौकियां खोलने जा रहा है। इसके लिए पुलिस मुख्यालय की ओर से शासन को प्रस्ताव भेजा गया है। जैसे ही प्रस्ताव पास होगा विभाग इस दिशा में काम करना शुरू कर देगा।

किन गांवों में हो रहा पलायन?
उत्तराखंड के तीन सीमांत जिले पिथौरागढ़, चमोली और उत्तरकाशी के सीमावर्ती कई गांव अभी पलायन की और बढ़ रहे हैं। ऐसे में यहां घुसपैठ की संभावना लगातार बनी रहती है। इसको देखते हुए केंद्र सरकार सीमावर्ती 51 गांवों को वाइब्रेंट विलेज योजना में शामिल कर यहां सुविधाएं बढ़ाने जा रही है।

इन गांवों में आर्थिक सुधार-आजीविका विकास, घर व ग्रामीण अवस्थापना, पारिस्थितिकी तंत्र का पुनरुद्धार, सड़क कनेक्टिविटी और कौशल विकास आदि कार्य किए जाने हैं। इसको लेकर यह योजना है कि इन गांवों में रहने वाले नौजवानों को नजदीक ही आजीविका के साधन मिले, ताकि पलायन रोका जा सके और रिवर्स पलायन हो।

लगातार बना हुआ है पलायन के कारण घुसपैठ का खतरा
चीन व नेपाल सीमा पर पुलिस चौकी खोलने का उद्देश्य यह है कि सूचना का आदान प्रदान आसानी से किया जा सके। इन पुलिस चौकियों में पुलिस जवान वायरलेस व रिपीटर सेट से पूरी तरह लैस होंगे। बता दें कि उत्तराखंड के तीन सीमांत जिलों पिथौरागढ़, चमोली और उत्तरकाशी में कुल 658 किलोमीटर सीमा चीन व नेपाल सटी हुई है। इसलिए इन जिलों में तेजी से हुए पलायन के कारण घुसपैठ का खतरा हर समय बना रहता है। इसको लेकर केंद्र सरकार की योजना है कि यदि सीमा पर पलायन रोका जाए तो घुसपैठ के खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

सीमावर्ती जिलों के इन गांवों में खुलेगी चौकी-
जिला – गांव

पिथौरागढ़ – 26

चमोली – 14

उत्तरकाशी – 11

पुलिस मुख्यालय मुख्य प्रवक्ता, नीलेश आनंद भरणे ने बातचीत में बताया कि चीन व नेपाल सीमा पर सरकार सुविधाएं बढ़ाने जा रही है। जिसमें स्वास्थ्य, शिक्षा सहित अन्य सुविधाएं दी जाएंगी, ताकि सीमांत गांवों में रह रहे स्थानीय लोगों को रोजगार के साथ-साथ अन्य अवसर भी मिल सके। स्थानीय लोगों को सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से पुलिस विभाग 16 पुलिस चौकी खोलने जा रहा है, जिसका प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। सीमांत क्षेत्र में पुलिस चौकी खुलने से स्थानीय लोगों के दिलों में सुरक्षा का भाव पैदा होगा।

read more:यूपी के आयुष्मान कार्ड में हो रहा फर्जीवाड़ा, दून अस्पताल में लगातार पैर पसार रही है फर्जी मंडली

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

error: Content is protected !!